Monday 5 August 2013

उपलब्धिया उत्तर प्रदेश सरकार की ...







बड़ी ख़ुशी की बात है की देश से गरीबी, भूख ,अशिक्षा ,बेरोजगारी ,बीमारियाँ ,चीन से खतरा ,पाकिस्तान का आतंकवाद ,जो भी समस्यायें थी सब ख़त्म हो गयी है । और देश से तो सारी ख़त्म हो गयी है । 
अब जो भी समस्याएं बची है वो केवल उत्तर प्रदेश में है और उत्तर प्रदेश में केवल एक समस्या है की एक अच्छा पढ़ा लिखा नौजवान मुख्यमंत्री क्यों है ?
  • उससे भी जायदा समस्या ये है की इसके वादों को अविश्वसनीय मानते थे ,उसने वो सब इतने कम समय में पूरा क्यों कर दिया ? 
  • क्यों पढाई ,दवाई को मुफ्त कर दिया ? 
  • क्यों किसान को पानी मुफ्त दे दिया और दे दिया ? 
  • किसान का खेत बिकने से क्यों बचा लिया ,उसे आत्महत्या करने से क्यों बचा लिया ,उसका ५० हजार का कर्ज क्यों माफ़ कर दिया ? नौजवानों को बेरोजगारी भत्ता क्यों दिया जो देश में कोई नहीं दे रहा है ? 
  • बहनों को कन्याधन क्यों दे रहा है जो कोई नहीं दे रहा है मुसलमानो के साथ हिन्दुओ को भी तीर्थयात्रा पर पैसा क्यों दे रहा है ? 
  • मुफ्त एम्बुलेंस क्यों चलवा रहा है ? 
  • नए बिजली के सब स्टेशन क्यों बनवा रहा है ? 
  • इतने कम समय में तीन मेडिकल कालेज क्यों बनवा दिया ? 
  • मेडिकल कालेज में छात्रो के सीटें क्यों बढ़ावा दिया ? कर्मचारियों को इतनी सुविधाएं क्यों दिया ? 
  • शिक्षको को सुविधाओ के साथ सम्मान क्यों दिया ? 
  • १५ लाख छात्रो को लैपटॉप क्यों दे रहा है ? 
  • हर जिला मुख्यालय को चार लेंन की सड़को से क्यों जोड़ रहा है ? 
  • तमाम अस्पताल और स्कूल क्यों बनवा रहा है ? एक्सप्रेस वे क्यों बनवा है ? 
  • सबको सम्मान क्यों दे रहा है ? बिजली का उत्पादन बढाने का इंतजाम क्यों कर रहा है ? 
  • नौकरियों की बाढ़ लाकर नौजवानों को रोजगार क्यों दे रहा है ? 
  • पहले की सरकार की तरह दिन रात वसूली क्यों नहीं कर रहा है ,सबको पिटवा क्यों नहीं रहा है ? 
  • सबको अपमानित क्यों नहीं कर रहा है ? 
  • बेशकीमती जमीनों को कब्ज़ा क्यों नहीं कर रहा है ? 
  • पत्थरो का खेल क्यों नहीं खेल रहा है ? 
  • अपनी मूर्तियाँ क्यों नहीं लगवा रहा है ? 
  • विकास के स्थान पर नफरत का खेल क्यों नहीं खेल रहा है ? 
  • प्रायोजित दंगे क्यों नहीं करवा रहा है ? 
  • धर्म और जाती के नाम पर नफ़रत क्यों नहीं फैला रहा है ? 
  • जाती और धर्म के नाम पर ढेरो मुकदमे क्यों नहीं लिखवा रहा है ? 
  • राजधानी में चिकत्सा अधीक्षकों की हत्या क्यों नहीं करवा है ? 
  • विधायको से बलात्कार क्यों नहीं करवा रहा है ? 
  • किसी अभियंता को मरवा क्यों नहीं रहा है ? 
क्या क्या बताऊँ की कितनी समस्याएं है और वो भी केवल उत्तर प्रदेश में । हाँ एक ख़ुशी की बात है की उत्तर प्रदेश की इमानदार व्यस्था और जिम्मेदार व्यवस्था के साथ और इस व्यवस्था में बैठे किसी के साथ पूरा हिदुस्तान खड़ा हो गया है । कभी उत्तर प्रदेश भारत को दिशा दिखता था ,नेतृत्व करता था ,किसी बहाने सही पूरा भारत उत्तर प्रदेश की व्यवस्था के एक छोटे से तुकडे तक के पीछे खड़ा हो गया है ,यहाँ तक की हिंदुस्तान की सबसे ताकतवर नेता भी उत्तर प्रदेश की एक कलम के पीछे कड़ी हो गयी है ।
हो गया न तय की देश में अब कोई समस्या नहीं है और जो है वो केवल उत्तर प्रदेश में है ।

सौजन्य: श्री फ्रैंक हुजुर 

Saturday 16 March 2013

जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा




"देश और प्रदेश मे
विश्वास है अखिलेश मे"

बहुत पहले मैने कहा था, आज अखिलेश सरकार के एक साल पूरे होने पर कह सकता हू की मैं सही था, जिस तरह से प्रदेश मे जातिवादी और संप्रदायिक ताकते लगातार कोशिश और षड्यंत्र कर रही है प्रदेश की समरसता और गंगा जमुनी तहज़ीब को बिगाड़ने की, जिसमे कुछ बड़े नेता और कुछ छूटभैये, गैरज़िम्मेदार और संप्रदायिक मानसिकता के कुछ पत्रकार भी शामिल थे, इन षड्यंत्रो और कुचक्रो के बीच जिस तरह से अखिलेश भैया की सरकार ने लोकहितकारी योजनाओं पर फोकस करते हुए एक शानदार साल पूरा किया, उसके लिए वो नीसंदेह बधाई के पात्र है...

भैया की सबसे बड़ी उपलब्धि रही है उत्तधर प्रदेश मे फ़िर से लोक शासन, लोक तंत्र लाना जिसे बहेन जी ने पाँच साल तक ५ कालिदास मे बंधक बना रखा था , १०८ समाजवादी एंबुलेंस सेवा जिसने प्रदेश को आशा की एक नयो किरण दिखाई है, १०९० विमन पवर लाइन और सबसे बड़ी बात उत्तर प्रदेश को तकनीकी रूप से पिछडे राज्य की श्रेणी से निकाल कर जमाने से कदम मिलकर चलने लायक बनाने के लिए दिया जाने वाला लॅपटॉप वितरण जो हमारी हीन भावना को दूर कर इस प्रदेश के नौनिहालो का आत्म विश्वास बढ़ाएगा...

क़र्ज़ माफी, नहरो मे सालो बाद कल कल बहता पानी, सोसायटी पर बिना लाठी खाए मिलते बीज और खाद, आगरा मे आते उद्योग पति खुद अखिलेश यादव की कार्यशैली बयान कर रहे हैं
कहना पड़ेगा की अखिलेश भैया ने उत्तर प्रदेश की आम जनता को नेताओं के "कसमे वादे प्यार वफ़ा सब बाते है बातो का क्या" जमाने से निकालकर "जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा " जमाने मे पहुचा दिया है…..

Sunday 24 February 2013

एक समाजवादी बजट


समाजवादी पार्टी ने हमेशा से ही किसानों, मज़दूरों और नौजवानों का हितैषी होने कि बात कही है और समाजवादी पार्टी के दुसरे बजट में जिस तरह से उनंहे केन्द्र में रक्खा गया है उससे कही कोई शक़ नही राह जाता कि हमारे युवा मुख्यमंत्री परम्परा और आधुनिकता का अनूठा संगम है; एक ऐसा इनसान जो जितनी आसानी से लैप्टॉप और टेबलेट चला सकता है उतनी ही आसानी से ट्रैक्टर और हल भी चला सकता है....

जो ग्लोबल समित कराकर उद्योगपति बुला सकता है तो किसानों का दर्द समझकर  नहरो में पानी और केंद्रों पर खाद भी पहुँचवा सकता है.....

ईश्वर आपको ऐसा ही बनाए रक्खे भइया....

Saturday 16 February 2013

मीडिया का पक्षपात...


मीडीया को कोई कुंभ मे नहाता हुआ दिखता है तो कभी स्टेशन परिसर के अंदर हुए भगदड़ मे अखिलेश सरकार ज़िम्मेदार दिखती है, कभी आज़म ख़ान साहब का ताज महल पर भाषण दिखता है..

लेकिन ये नही दिखता की गंगा जमुनी तहज़ीब का नज़ारा पेश किया उन्न्होने, मेला क्षेत्र की ज़िम्मेदारी उठाई और कम से कम मेला परिसर और शहर मे अधिकतम सुविधाए दिलवाई..

१०८ की अंबूलेंस सेवा नही दिखती जिसने आज ग्रामीण स्वास्थ्य सेवाओं की तस्वीर बदल दी है..

१०९० नही दिखता जिसकी वजह से राह चलते मनचलो मे एक डर सा पैदा हो गया है.

सालो बाद इस खेती के सीज़न मे आया हुआ नहरो का पानी नही दिखता ??

बिना लाठी खाए मिलने वाली खाद और बीज नही दिखते ??

गाँव का वो समरसता भरा वातावरण नही दिखता ???

मैं कन्या विद्या धन, बेरोज़गारी भत्ता, और टॅबलेट, लॅपटॉप जैसी योजनाओं का नाम नही लूँगा क्यूकी ये पर्याप्त चर्चा पा चुकी लेकिन बाकी उपर की योजनाओं ने किसानो और ग्रामीनो का दिल जीता है, उनका जीवन आसान किया है...

क्या मीडिया को ये सब नही दिखता....

Tuesday 8 January 2013

रेप "एक हादसा"

 अभी हाल ही में पुष्य मित्र भाई का का एक आलेख  पढ़ा, जिसमे उन्होने लिखा है कि "बलात्कार अपराध के तौर पर निःसंदेह बहुत ही गंभीर है और बलात्कारी को कड़ी से कड़ी सजा मिलनी चाहिए, लेकिन मेरे हिसाब से बलात्कार कतई एक क्षुद्र किस्म की क्षति से अधिक नहीं है. इतनी भी नहीं कि इसे आपकी कानी उंगली के कटने के बराबर माना जाये." (पुष्यमित्र जी ) वैसे जो हमारी मानसिकता बन चुकी है उसमे  हमारी दुनिया में बलात्कार ही एकमात्र ऐसा अपराध है जिसमें दोषी की इज्जत का तो पता नहीं, पीड़ित की इज्जत निश्चित तौर पर चली जाती है, और कुछ यही हमें आज तक बालीवुड में भी दिखाया जाता  है की बलात्कारी तो अट्टहास करता है और पीडिता किसी ऊँची पहाड़ी से कूदकर आत्महत्या , इस ट्रेंड को  बदलना होगा, बलात्कार को एक  दुर्घटना से अधिक कुछ भी मानने की मानसिकता से बाहर आना होगा , तभी पीड़िता के बजाय अपराधी को सज़ा मिलेगी और पीडिताएं समाज में सम्मान से जी सकेंगी....

Thursday 3 January 2013

108, समाजवादी एम्बुलेंस सेवा.........

108, एक नंबर जो आने वाले दिनों में  प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं में एक मील का पत्थर साबित होगा, तस्वीर बदल देगा देगा स्वास्थ्य व्यवस्थाओं की, मुख्यमंत्री माननीय अखिलेश अखिलेश यादव जी को सलाम करता हु,


कल 02 जनवरी की भोर में 4:30 पर मेरा खुद का ऐसा अनुभव हुआ की मै सुखद आश्चर्य से भर उठा, मेरे घर के पास स्थित हरिजान बस्ती से कुछ लोग हमारी सगड़ी (तीन पहिये की साईकिल)  मांगने आये एक प्रसव पीडिता को अस्पताल ले जाने के लिए और इत्तेफाक से सगड़ी का टायर फट चूका था और पापा गाड़ी लेकर बनारस गए हुए थे और पीडिता साईकिल पर जाने की हालत में नहीं थी, पैदल जाना भी उसके लिए मुश्किल था तो उसका पति और देवर ये  कह कर की  की कोई बात नहीं हम चारपाई पर लेकर चले जायेंगे अपने घर चले गए और मैं अपने बिस्तर पर.......

लेकिन मेरी आँखों की नींद उड़ चुकी थी और मैं परेशांन  था की ये कैसे पहुचेंगे अस्पताल,  इस ठण्ड में एक बीमार का चारपाई पर जानायकायक मेरे दिमाग में धनतेरस के दिन बाबुल भाई और असित भाई के साथ देखी  हुई समाजवादी एम्बुलेंस सेवा की याद आ गयी और मैंने लेटे-लेटे 108 डायल किया , कुछ ही क्षणों बाद फोन उठा और मुझसे समस्या और पता  पूछी  गयी और बताया गया की यद्यपि भदोही नजदीक था लेकिन एक जिले में एक ही जिले की अम्बुलेंस जाएगी और मुझे ड्राईवर से कांटेक्ट कराया गया, मैंने उसे पता बताया और लोकल न होने की वजह से थोड़ी दिक्कत  आयी लेकिन आश्चर्य पीडिता के चारपाई पर निकल कर घर से 100 मीटर जाते जाते अमबुलंस उनके सामने थी और पीड़ित महिला के पति और सास  रोने लग गए और मुझे दुआये देने लग गए और मैंने कहा की उन दुआओं का असली हक़दार वहां लखनऊ में बैठा हुआ है ............ आज वो महिला एक स्वस्थ बिटिया की मा है और उन्हे ख़ुशी इस बात की भी थी की उनसे एक भी पैसा नहीं लिया गया,,,,

आपको दिल की गहराइयो से दुआ और धन्यवाद भैया आपके ये छोटे छोटे कदम प्रदेश की तकदीर बदल देंगे ................