Thursday 3 April 2014

किसानों, नौजवानो, मुसलमानों,सवर्णोंं का घोषणा पत्र


समाजवादी पार्टी ने अपना मैनिफेस्टो जारी कर दिया है जिससे आम जनता , किसानों, नौजवानो, मुसलमानों से लेकर सवर्णोंं तक में उत्साह तथा विपक्षी पार्टियोंं  में खलबली है क्युकि जिस तरह समाजवादी पार्टी का अपने घोषणा पत्र को पुरा करने का इतिहास रहा है, अगर ये कायम रहा तो दोनों प्रमुख और उनके कई सहयोगी पार्टियों के लिए बेहद मुश्किल स्थिति पैदा हो जायेगी

विकास और प्रगती के बड़े बड़े दावे करने वाली भाजपा अभी तक अपनी योजनाए जनता के सामने नही लाई है, आख़िर क्या योजना है भाजपा के पास देश के लिए, देशवासीयो के लिए ?भाजपा का मैनिफेस्टो कहां है? भाजपा ने अभी तक मैनिफेस्टो क्यों नहीं जारी किया है? देश और मतदाताओं को यह जानने का हक है कि अबकी बार मोदी सरकार ठोस क्या करने जा रही है? बीजेपी का  मैनिफेस्टो तो नहीं है, लेकिन मुरली मनोहर जोशी कि अध्यक्षता में रचित घोषणा पत्र में निष्कासित सदस्य जसवंत सिंह जी अभी भी सुशोभित है और हां, बदलाव को मजाक बना देने वाली आम आदमी पार्टी ने भी मैनिफेस्टो नहीं जारी किया है। क्यों? आखिर उन्हें भी बताना चाहिए कि वे सरकार में आकर क्या करना चाहते हैं या सरकार में आने के पहले क्या कहना चाहते है  ? उनकी अर्थनीति और सामाजिक नीति क्या होगी?

अब पहले फेज की वोटिंग में सिर्फ एक सप्ताह है। इसलिए भाइयों और बहनों और मित्रों के सामने मैनिफेस्टो तुरंत पेश करो! अगर कोई है तो ???

अभी तक ये दल सोचते थे कि "कसमें वादे प्यार वफा सब बातें है बातों का क्या लेकिन समाजवादी पार्टी और अखिलेश जी ने  इसे "जो वादा किया वो निभना पड़ेगा" में बदल दिया है