Saturday 16 March 2013

जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा




"देश और प्रदेश मे
विश्वास है अखिलेश मे"

बहुत पहले मैने कहा था, आज अखिलेश सरकार के एक साल पूरे होने पर कह सकता हू की मैं सही था, जिस तरह से प्रदेश मे जातिवादी और संप्रदायिक ताकते लगातार कोशिश और षड्यंत्र कर रही है प्रदेश की समरसता और गंगा जमुनी तहज़ीब को बिगाड़ने की, जिसमे कुछ बड़े नेता और कुछ छूटभैये, गैरज़िम्मेदार और संप्रदायिक मानसिकता के कुछ पत्रकार भी शामिल थे, इन षड्यंत्रो और कुचक्रो के बीच जिस तरह से अखिलेश भैया की सरकार ने लोकहितकारी योजनाओं पर फोकस करते हुए एक शानदार साल पूरा किया, उसके लिए वो नीसंदेह बधाई के पात्र है...

भैया की सबसे बड़ी उपलब्धि रही है उत्तधर प्रदेश मे फ़िर से लोक शासन, लोक तंत्र लाना जिसे बहेन जी ने पाँच साल तक ५ कालिदास मे बंधक बना रखा था , १०८ समाजवादी एंबुलेंस सेवा जिसने प्रदेश को आशा की एक नयो किरण दिखाई है, १०९० विमन पवर लाइन और सबसे बड़ी बात उत्तर प्रदेश को तकनीकी रूप से पिछडे राज्य की श्रेणी से निकाल कर जमाने से कदम मिलकर चलने लायक बनाने के लिए दिया जाने वाला लॅपटॉप वितरण जो हमारी हीन भावना को दूर कर इस प्रदेश के नौनिहालो का आत्म विश्वास बढ़ाएगा...

क़र्ज़ माफी, नहरो मे सालो बाद कल कल बहता पानी, सोसायटी पर बिना लाठी खाए मिलते बीज और खाद, आगरा मे आते उद्योग पति खुद अखिलेश यादव की कार्यशैली बयान कर रहे हैं
कहना पड़ेगा की अखिलेश भैया ने उत्तर प्रदेश की आम जनता को नेताओं के "कसमे वादे प्यार वफ़ा सब बाते है बातो का क्या" जमाने से निकालकर "जो वादा किया वो निभाना पड़ेगा " जमाने मे पहुचा दिया है…..